Friday, 18 October 2019

आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है।

आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है


कोयल ने मीठा गीत सुनाया है
पक्षियों ने चहचहाया है
कुसुम-सुमन ने हसकर बोला
मुबारक हो, मुबारक हो 
आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
                                                चंदा की शीतलता ने बतलाया है
                                                 झरनों ने शोर मचाया है
                                                  मयूरों ने भी गुनगुनाया है
                                                   मुबारक हो, मुबारक हो 
                                                 आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
हवाओं ने कानों में गुदगुदाया है 
विहंगों ने राग सुनाया है
यह मौसम सबको भाया है
मुबारक हो, मुबारक हो 
आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
                                                 कलियों ने मुस्कराया है
                                                  मेघों ने गडगडाया है
                                                   गेहूँ की कोपलों ने फुसफुसाया है
                                                   मुबारक हो, मुबारक हो 
                                                  आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।


                                                 "मीठी"

1 comment: