Thursday, 17 October 2019

जिंदगी, साइकिल की जैसी है सवारी

जिंदगी, साइकिल की जैसी है सवारी 


बात है बहुत पुरानी, उम्र भी नहीं थी जब सयानी,
सुनाती थी मेरी नानी, परियों की कहानी ।

उन दिनों उम्र महज दस साल की थी,
पंचम कक्षा में पढती थी, स्कूल की टॉपर थी ।

मामा ने खुश होकर मेरे नम्बरों से एक साइकिल दिलायी थी,
देख साइकिल जैसे उपहार को मेरे मन में भी खुशहाली आयी थी ।

सफेद, गुलाब सा रंग उसका मेरे मन को भाया था,
चलाऊँगी कैसे साइकिल, यह सोच मेरा मन घवराया था ।

रोज सुबह उठकर साइकिल चलाना , एक शौक सा था,
मेरे मन के अन्दर नयी उमंग, एक अजीब शोर सा था ।

साइकिल से रिश्ता कुछ मेरा पुराना सा हो गया था,
साइकिल जब-जब चलाती , तब तब मेरा मन खोया था ।

आज फिर उस जैसी साइकिल को देखकर, मुझे अपनी साइकिल की याद आयी,
जी चाहता है चली जाऊ दोबारा उस बचपन की गलियों में जो लौटकर कभी ना आयी ।

हर वक्त है सम्भलने की ठेकेदारी ।


"झल्ली"

No comments:

Post a Comment