Wednesday, 7 August 2019

तोहफा- एक भेंट A Gift

तोहफा- एक भेंट A Gift


उसे तोहफे देना पसन्द है,
मगर मुझे लेना नहीं।

बीच का रास्ता ढूढ कर मैने बोला,
चलो कुछ गैर कीमती दे दो।

जो ना तुम्हारी जेब पर भारी पड़े,
ना मेरे मन पर भारी बने।

नादान था, मुस्कान दे गया।

                                                                                                                "मीठी"

No comments:

Post a Comment