Monday, 12 August 2019

मेरा दोस्त - मेरी आंखों का तारा

मेरा दोस्त - मेरी आंखों का तारा


रहन-सहन उसका अजीब है,
उसकी हर बात में तहजीब है।
वो सबसे न्यारा, सबसे प्यारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

मेरी खामोशी को वह सुन लेता है,
उदासी को पढ लेता है।
हर कमी, हर गलती मेरी अपनाता है,
मैं भटक जाती हूँ, गर अपने पथ तो मुझे समझाता है।
मुझे सम्भालता गिरने से वो मेरा सहारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

अब का नहीं जन्मों का लगता है अपना याराना है,
क्या रिश्ता है हम दोनों में मुश्किल सबको समझाना है।
मैं नीर की जैसी प्यासी हूँ, वो नदिया की धारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

दुनिया की किसी शोहरत की ना उसे दरकरार है,
लाख उतार चढाव आने पर भी उसने ये रिश्ता रखा बरकरार है।
वह आवारा सा है, पागल सा है,
मगर मेरी खुशियों का पिटार है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

                                                                        "मीठी"

No comments:

Post a Comment