Thursday, 1 August 2019

मंजिल मिल जाती - जो तुम आ जाते एक बार

मंजिल मिल जाती 


दो भटके राही को मंजिल मिल जाती,
जीवन में आ जाती नयी बहार,
जो तुम आ जाते एक बार।


मिट जाता गमों का अंधेरा,
खुशियों की हो जाती बौछार,
जो तुम आ जाते एक बार।


मिल जाता इस रिश्ते को खूबसूरत नाम,
मौहब्बत ना होती आज यूँ तार-तार,
जो तुम आ जाते एक बार।


जीवनपथ फूलों सा सज जाता,
होठों पर खिलती हर पल मुस्कान,
जो तुम आ जाते एक बार।



ना तड़पती रूह इस कदर,
ना रहता अधूरा प्यार
प्रेम से हरा-भरा रहता तेरा मेरा संसार,
जो तुम आ जाते एक बार ।


                                                    "मीठी"

No comments:

Post a Comment