Friday, 26 July 2019

मैं लिखूँ- Me Likhu

मैं लिखूँ


लिखूँ अपनी पक्तियों में तुझको,
तेरा सभ्य, विनम्र व्यवहार लिखूँ।
कर्मठ, मृदुभाषी, दयालू, सदाचारी,
तुझमें समाये संस्कार लिखूँ ।


                                                     मैं सूरजमुखी के सूरज से,
                                                     वह नैन मिलन का सार लिखूँ ।
                                                     मेरे नयनों में देखकर, तेरे चंचल नयनों का,
                                                     मैं  शरमाना हजार बार लिखूँ।


मैं तुझको अपने पास लिखूँ,
या दूरी का अहसास लिखूँ ।
वो पहली-पहली घास लिखूँ,
या निश्छल पडता प्यार लिखूँ।


                                                     सावन की रंगीली बहार लिखूँ,
                                                     या पतझडं में मौसम का संहार लिखूँ ।
                                                     है नीरस तुझ बिन जीवन मेरा,
                                                     मैं तेरी आँखों मेंं अपना सारा संसार लिखूँ।


तुझे हकीकत लिखूँ या ख्वाव लिखूँ,
बसुन्धरा-मेघा सा तेरा-अपना साथ लिखूँ।
राधा-कृष्ण के प्यार सा,
मैं वो अधूरा सार लिखूँ।


                                                    चुन-चुन कर नये-नये शब्द तेरे लिये,
                                                    अपनी हर कविता में तुझको बार-बार लिखूँ।
                                                    बहुत मुश्किल है तुझे सिर्फ कविताओं में बयां करना,
                                                    तू ही बता मैं कैसे अपना प्यार लिखूँ ।


                                                                                             "मीठी"

No comments:

Post a Comment