Wednesday, 31 July 2019

तुम बसे हो

तुम बसे हो


जैसे मृदुभाव अन्तर्मन में,
जैसे सुगंध चन्दन में,
बसे हो एसे तुम मेरे मन में।
                                          जैसे रोशनी चाँदनी रातों में,
                                          जैसे रिश्ते बंधे सौगातों में,
                                          बसे हो एसे तुम मेरी बातों में।
जैसे गणित हिसाबो में,
जैसे कहानी किताबों में,
बसे हो एसे तुम मेरे ख्वाबों में।
                                           जैसे सनसनाहट हवाओं में,
                                           जैसे गड़गड़ाहट बादलों में,
                                           बसे हो एसे तुम मेरे ख्यालों में।
जैसे साँसे तन में,
जैसे खुशबू सुमन में,
बसे हो एसे तुम मेरे जीवन में ।


                                                                                 "मीठी"

Tuesday, 30 July 2019

मैं तुझे आज भी प्यार करती हूँ

मैं तुझे आज भी प्यार करती हूँ



तेरे मैसेज तेरी कॉल का इन्तजार करती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                               तू दूर है परवाह नहीं, तुझसे गुफ्तगू आठों पहर करती हूँ,
                                                               मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


तेरी तस्वीर को दिन, एक बार नहीं सौ बार नहीं, हजार बार निहारती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                है नहीं कुछ और तुझे देने को, खुदा से सजदा बार-बार करती हूँ,
                                                                मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


तू आया मेरे जीवन में, प्रेम धुन बजाने मन में मैं तेरा आभार करती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                 अपनी हर एक कविता तुझ पर शुरू तुझ पर ही खत्म करती हूँ,
                                                                 मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                                                                                                   "मीठी"



Monday, 29 July 2019

आंशू और मुस्कान

आंशू और मुस्कान



मैं कुछ दिनों से उसमें उसे ढूंढ रही थी,
जब बिखरा हुआ मिला तो उसे समेट रही थी,
अब कुछ समेटा है उसको कुछ बिखरा हुआ सा अब भी है,
जख्म पुराना हो गया पर घाव ताजा अब भी है,


हर चोट पर उसकी मैं मरहम लगाऊंगी,
उदासी भरे उसके जीवन में, मैं खुशियाँ फैलाऊंगी,
टपकने ना दुंगी उसकी आँख से आंशू,
उसके हर एक अस्क को मैं  मुस्कान बनाऊंगी।


                                                                      "मीठी"

Saturday, 27 July 2019

शब्दों की माला

शब्दों की माला


जी चाहता है  गूँथू एक,
शब्दों की ऐसी माला,
जिसमें उस एक शख्स के,
गुणों का हो धागा,
करूँ मैं माला उसे अर्पण,
जिसने मेरे लिये किया प्रेम समर्पण।
                                                      
अंधकार में, उजालों में,
आँधियों में, तूफानों में,
रहा साथ मेरे वो हरदम,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

सलोनी सी सूरत उसकी,
चाँद सी मोहक अदायें है,
छल, कपट से है वो कोसों दूर,
मन उसका है एक दर्पण,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

हिम सी शीतलता उसमें,
नीर सी चंचलता है,
फूल सी कोमलता है उसमें,
नादानों सा है भोलापन,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

चंदन सी सुगंध है उसमें,
कोयल सी मीठी बोली है,
प्रेम, स्वाभिमानी, धैर्य, उदारता,
की वो है एक मूरत,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

है सबसे न्यारा वो,
अपनी ही धुन पर थिरकता है,
जीवन को जीने का उसका अलग तरीका है,
अजीबो-गरीब ही है उसका मेरा बंधन,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

अन्त में,
             एक मधुर रिश्ते की इन कडियों से,
             जुडी रहे ये माला,
             जलती रहे मेरे अन्तर्मन में,
             हर पल उसके प्रेम की ज्वाला,
                        एक बार आज फिर तुम्हारा सजदा कर रही हूँ,
                        अपनी इस कविता में तुम्हारी तारीफ लिख रही हूँ,
                        तुम पर है न्यौछावर मेरा तन मन धन,
                        करूँ ये माला उसे अर्पण।

                                                                                                     "मीठी"


याद करू या भूल जाऊ

याद करू


हे आनन्द,.... क्या तुझमें लिपटी यादें,
भूल-भूलकर खो जाऊ या,
याद करू ।

या तुझमें सारा जीवन,
बिसराऊ,
या तेरी पलकों के आँखों की मीठी मुसकानें,

यू ही अपने जीवन में,
सपना सा जान गुनगुनाऊँ ।

हे आनन्द,... बता तेरी सूरत में है क्या,
तुझे देखकर भी अनदेखा करूँ,
या नित-नित तेरी तस्वीर निहारू।

या तूझे मात्र सोचकर,
डूब जाऊँ कल्पनाओं के सागर में,

या तुझे शब्दों की माला में पिरोकर,
जीवन भर नये-नये गीत बनाऊँ । 

                                                             "मीठी"

मुझे अब तुझसे दूर जाना है

मुझे अब तुझसे दूर जाना है


आठों पहर आने वाली, तेरी यादों के सहारे, 
अब हँसना और जीना है, मुझे अब तुझसे दूर जाना है ।

पहलू से अब तेरे खुद को सिमेटना है,
पास रहकर अब तेरे, तुझे नहीं और सताना है।

मुझे अब तुझसे दूर जाना है।

है तुझसे  बेहद प्यार, अब यह अहसास तुझे नहीं दिलाना है,
तेरे और तेरे अपनों की खुशी के लिये, मुझे अब तुझसे दूर जाना है।


रहे तू आबाद अपनी दुनिया में, अब यही एक सजदा खुदा से करना है,
तेरे एक-एक जख्म को अपनी दुआओं से भरना है ।

मुझे अब तुझसे दूर जाना है । 


"मीठी"

विरह: बिखरी यादों का संसार

विरह: बिखरी यादों का संसार



तेरी मीठी यादों का झराना, जब-जब दरिया ए दिल में गिरता है।
झर-झऱ लहरोंं सा शोर मेरे अन्तर्मन में भी बजता है।


तेरी यादों का झोका भी हवा की भाँति चलता है,
आता है जाता है फिर दब कर कहीं आँखों में रूक जाता है ।
आता है जाता है फिर थक कर कहीं आँखों में रूक जाता है ।

कुछ बिखरी यादों का संसार लिये, एक विरह की आग लिये,
अब तन-मन हर रोज मेरा जलता है, लहरों सा शोर मेरे मन में बजता है ।
झर-झऱ लहरोंं सा शोर मेरे अन्तर्मन में बजता है।



                                                                                                                          "मीठी"

Friday, 26 July 2019

What is Love: A Poem

Love: A Poem


Love is not a Joke,
Love is not a Game.
Once you fall in Love,
You will be never same.
                                        Love is never-ending,
                                        Love is never wrong.
                                        Sometimes it makes you Weak,
                                        Sometimes it makes you Strong.
Love is everlasting,
Love is wonderful.
When you are in Love, someone,
You became cheerful.
                                          
                                        Love is always true,
                                        Love is always kind.
                                        Love is something that happens,
                                        Not something that you find.



                                                                                            "मीठी"(झल्ली) 

वो शख्स- Wo Shakhs- एक शायरी किसी खास के लिये

वो शख्स- बस एक आश


जिसके काले, घुंघराले से बाल हैं,
जिसका रंग रूप सबसे कमाल है, 
जिसके गालों पर छायी सुबह की लालिमा है,
जिसकी आँखों में सागर सी गहरायी है,
जिसकी तस्वीर मैने अपनी कविता में दिखायी है,
जो मेरी जिन्दगी में बस 'काश' है,
वो शख्स मेरी जिन्दगी में सबसे खास है।


जिसकी मुस्कराहट में फूलों सी ताजगी है,
जिसकी हंसी में लहरों सा शोर है,
जिसके चेहरे पर नादानों सा भोलापन है,
जिसके अन्दर गुलाबों सी महक है,
जिसकी बोली में शहद सी मिठास है,
वो शख्स मेरी जिन्दगी में सबसे खास है।


जिसकी रूह में गंगा सी पवित्रता है,
जिसकी पहाड़ों सी ऊँची मानसिकता है,
जिसका रहन-सहन भी मनभावन है,
जिसका मन बच्चों सा पावन है,
जो मेरी जिन्दगी की बस आस है,
वो शख्स मेरी जिंदगी में सबसे खास है।

                                                    "मीठी"





मैं लिखूँ- Me Likhu

मैं लिखूँ


लिखूँ अपनी पक्तियों में तुझको,
तेरा सभ्य, विनम्र व्यवहार लिखूँ।
कर्मठ, मृदुभाषी, दयालू, सदाचारी,
तुझमें समाये संस्कार लिखूँ ।


                                                     मैं सूरजमुखी के सूरज से,
                                                     वह नैन मिलन का सार लिखूँ ।
                                                     मेरे नयनों में देखकर, तेरे चंचल नयनों का,
                                                     मैं  शरमाना हजार बार लिखूँ।


मैं तुझको अपने पास लिखूँ,
या दूरी का अहसास लिखूँ ।
वो पहली-पहली घास लिखूँ,
या निश्छल पडता प्यार लिखूँ।


                                                     सावन की रंगीली बहार लिखूँ,
                                                     या पतझडं में मौसम का संहार लिखूँ ।
                                                     है नीरस तुझ बिन जीवन मेरा,
                                                     मैं तेरी आँखों मेंं अपना सारा संसार लिखूँ।


तुझे हकीकत लिखूँ या ख्वाव लिखूँ,
बसुन्धरा-मेघा सा तेरा-अपना साथ लिखूँ।
राधा-कृष्ण के प्यार सा,
मैं वो अधूरा सार लिखूँ।


                                                    चुन-चुन कर नये-नये शब्द तेरे लिये,
                                                    अपनी हर कविता में तुझको बार-बार लिखूँ।
                                                    बहुत मुश्किल है तुझे सिर्फ कविताओं में बयां करना,
                                                    तू ही बता मैं कैसे अपना प्यार लिखूँ ।


                                                                                             "मीठी"

Thursday, 25 July 2019

कविता:-Ek Shakhs- एक शख्स A Poem


एक शख्स- Ek Shakhs


एक शख्स है मेरी जिन्दगी में गजलों की तरह,
अंधेरों में उजालों की तरह।
मेरे गम ए परस्ती में मुझे हसाता है वो,
मैं रूठ जाऊँ तो मुझे प्यार से मनाता है वो।
मेरी बचकानी सी हरकतों पर मुस्कराता है वो,
मेरा खिलखिलाता मजाज देखकर खिलखिलाता है वो।


एक शख्स है मेरी जिन्दगी में किताबों की तरह,
दिल में धडकते खूबसूरत जज्बात की तरह।
एक हुनर भी अपने पास रखता है वो,
दूर रहकर भी मेरे दिल में बसता है वो।
रात होते ही मेरी आँखों में उतर जाता है वो,
रोज-रोज मेरे ख्वाबों, ख्यालों में आता है वो।
मेरी अधूरी कविता को पूरी करता है वों,
मेरी रूह मेंं सरिता की तरह बहता है वो।


एक शस्स है मेरी जिन्दगी में गवारों की तरह,
कभी न मिलने वाले नदी के दो किनारों की तरह।
भूलकर भी भुलाया न जाये वो ख्याल है वो,
मेरी दुनिया में मेरे लिये सबसे कमाल है वो।
मासूमियत और सादगी में बेमिसाल है वो,


जबाव जिसका ना है कोई, वो सवाल है वो।
एक शख्स है मेरी जिंदगी में गुलाब की तरह,
मुकम्मल कभी ना हो जो उस अधूरे ख्वाब की तरह ।


                                                                                                               "मीठी"