Friday, 25 October 2019

तुम्हारा जन्मदिवस गुलाबो पर रंगत लाया है

😊
तुम्हारा जन्मदिवस गुलाबो पर रंगत लाया है
तुम्हारा जन्मदिन दीवाली भी साथ लाया है
हर तरफ प्रकाश ही प्रकाश फैलाया है।
तुम्हारा जन्मदिन नया हर्ष और उमंग लेकर आया है।

उसने मुझे हमारी संगत को याद दिलाया है
 वह बीता बरस याद आया है जब तुम थी नाराज
तुम्हारे जन्मदिन पर मै नहीं था तुम्हारे साथ
 तुमने कॉल कर कर के मुझे अपने पास बुलाया था
फिर केक काट कर अपना जन्मदिन मनाया था
अपने हाथो से मुझे केक और टऑफीज़ खिलाया था।



Maggie

Friday, 18 October 2019

आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है।

आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है


कोयल ने मीठा गीत सुनाया है
पक्षियों ने चहचहाया है
कुसुम-सुमन ने हसकर बोला
मुबारक हो, मुबारक हो 
आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
                                                चंदा की शीतलता ने बतलाया है
                                                 झरनों ने शोर मचाया है
                                                  मयूरों ने भी गुनगुनाया है
                                                   मुबारक हो, मुबारक हो 
                                                 आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
हवाओं ने कानों में गुदगुदाया है 
विहंगों ने राग सुनाया है
यह मौसम सबको भाया है
मुबारक हो, मुबारक हो 
आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।
                                                 कलियों ने मुस्कराया है
                                                  मेघों ने गडगडाया है
                                                   गेहूँ की कोपलों ने फुसफुसाया है
                                                   मुबारक हो, मुबारक हो 
                                                  आपका जन्मदिन बसंत लेकर आया है ।


                                                 "मीठी"

Janu Kyun ! Janu Kyu

Kyu Chalti hai Pawan,
Because of Low Density.


Kyu Jhoome hai Gagan,
Because of Earth's Revolution.


Kyu Machalta hai Man,
Because of Mental Disorder.


Na Tum Jano Na Hum,
I Know Everything because I have answered all the questions.


Kyu Aati he Bahar,
Because of the Receding of winter.



Kyu Laut ta hai Karar,
Because of Robbers and Dacoits.


Kyu aata he Pyar,
Because of Fatal Infatuation.


                                        "Meera & Vandana"

थोडा सा शुरूर, हल्का सा गुरूर

थोडा सा शुरूर, हल्का सा गुरूर


वो जो एक सूरत है, बडी ही खूबसूरत है ।
सिद्दत से तलाशी हुई, खुदा की एक मूरत है ।

थोडा सा शुरूर और हल्का सा गुरूर है ।
कैसे सम्भालू खुद को उसे चाहने से,ये दिल उसकी मोहब्बत में चकनाचूर है ।

उसकी आँखों से मैं शब्द चुराकर अक्सर कविता लिखती हूँ।
हर कविता में उसको पढती हूँ, हर कविता में उसकी मूरत है ।


वो जो एक सूरत है, बडी ही खूबसूरत है  ।

संजोया है उसको मैने अपनी डायरी के हर पन्ने में,
वो बेखवर रहता है, हर वक्त मेरे दिल के आशियाने में ।

वो जो उसका मासूम सा चेहरा है, मेरे दिल की एक जरूरत है, 
वो जो एक सूरत है, बडी ही खूबसूरत है  ।

                                                                          "मीरा"

Thursday, 17 October 2019

जिंदगी, साइकिल की जैसी है सवारी

जिंदगी, साइकिल की जैसी है सवारी 


बात है बहुत पुरानी, उम्र भी नहीं थी जब सयानी,
सुनाती थी मेरी नानी, परियों की कहानी ।

उन दिनों उम्र महज दस साल की थी,
पंचम कक्षा में पढती थी, स्कूल की टॉपर थी ।

मामा ने खुश होकर मेरे नम्बरों से एक साइकिल दिलायी थी,
देख साइकिल जैसे उपहार को मेरे मन में भी खुशहाली आयी थी ।

सफेद, गुलाब सा रंग उसका मेरे मन को भाया था,
चलाऊँगी कैसे साइकिल, यह सोच मेरा मन घवराया था ।

रोज सुबह उठकर साइकिल चलाना , एक शौक सा था,
मेरे मन के अन्दर नयी उमंग, एक अजीब शोर सा था ।

साइकिल से रिश्ता कुछ मेरा पुराना सा हो गया था,
साइकिल जब-जब चलाती , तब तब मेरा मन खोया था ।

आज फिर उस जैसी साइकिल को देखकर, मुझे अपनी साइकिल की याद आयी,
जी चाहता है चली जाऊ दोबारा उस बचपन की गलियों में जो लौटकर कभी ना आयी ।

हर वक्त है सम्भलने की ठेकेदारी ।


"झल्ली"

तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो

तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो 


ख्वाहिश नहीं तुम मेरी खुशी हो,
रूह को जो सुकून दे, सर्दी की वो धूप हो ,
ख्वाबों में जो रोज मिले, तुम वो दौलत हो,
तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो ।

तुम हकीकत नहीं, हसरत हो,
होठो पर जो तबस्सुम लाये, उन हसीन लम्हों की याद हो,
क्यों देखते हो खुद को आइने में, तुम खुद से भी ज्यादा खूबसूरत हो,
तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो ।

तुम्हें हासिल करूँ ये आरजू नहीं, तुम तो बस मेरी चाहत हो,
जेठ की धूप में ठंडक देने वाले दरख्तों का साया हो,
दिल को गवारा ही नहीं, तुम मुझसे कभी रूख्सत हो,
तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो ।

डुबाये रखता है जो हर पल मुझे तुम वो ख्याल हो,
रूह से निकले और पन्नों पर टिके तुम वो शायरी हो,
मैं तुम्हारे ही दम से जिन्दा हूँ, मर ही जाऊँ जो तुमसे फुरसत हो,
तुम मेरी पहली और आखिरी सी मौहब्बत हो ।


एक प्यार ऐसा भी

उसने मुझे जब पहली बार देखा
उसे एक अलग अहसास हुआ
वो इस कदर डूबी उस अपने ही बनाए संसार में
उसने अपना दिल अपना मन मुझ पर बार दिया।

में भी तो अंजना था इस बयार से
जो उसने दिया मुझे अपने  प्यार से
में भी डूब गया उस एहसास में
बिना कुछ सोचे बिना कुछ विचारे


पर एक समय आया उसने किसी और का हाथ थाम लिया
उसने मेरे और अपने दिल से बने उस रिश्ते को भुला दिया
मुझे जिंदगी भर के लिए आंसू दे गया।

Monday, 30 September 2019

एक शख्स- जो अश्क दे गया

एक शख्स- "जो अश्क दे गया"


मैं नीद तो मेरा ख्वाब है, एक शख्स
मैं अश्क तो मेरी आँख है, एक शख्स
मैं दुआ तो मेरी इबादत है, एक शख्स
मैं जज्बात तो मेरी मौहब्बत है, एक शख्स


मैं दिल तो मेरी धडकन है, एक शख्स
मैं होठ तो मेरी मुस्कान है, एक शख्स
मैं किताब तो मेरे अल्फाज है, एक शख्स
मैं गीत तो मेरा साज है, एक शख्स


मैं सूरत तो मेरी सादगी है, एक शख्स
मैं फूल तो मेरी ताजगी है, एक शख्स
मैं नदी तो मेरा नीर है, एक शख्स
मैं किरदार तो मेरी पूरी कहानी है, एक शख्स


मैं सागर तो मेरी गहराई है, एक शख्स
मैं शरीर तो मेरी परछाई है, एक शख्स
मैं जम़ी तो मेरा आसम़ा है, एक शख्स
मैं एक किस्सा और मेरी पूरी दास्तान है, एक शख्स


मैं मीरा तो मेरा कृष्ण है, एक शख्स
एक शख्स, एक शख्स, एक शख्स
मुझमे, मुझमे बस मुझमे समाया है, एक शख्स ।



                                                               "मीठी"

Saturday, 21 September 2019

काश तुम मेरे होते

काश तुम मेरे होते




क्या तुमसे अच्छा क्या कोई मुझे समझ पायेगा,
मेरी बेरंग दुनिया में क्या कोई रंग लायेगा,
मेरे बन्द होठों को क्या कोई अल्फाज दे पायेगा,
मेरी अधूरी मुस्कान को क्या कोई पूरी कर पायेगा।

सूखे समंदर की प्यास क्या किसी और को समझ आयेगी,
मेरी अधूरी कहानी कहाँ तुम बिन पूरी हो पायेगी,
हे प्रियवर, झल्ली खुद से पूछती है ये सवाल,
क्या तुम बनोगे जबाव ।


जबाव मैने ढूंढ लिया था,
पर तुम कर ना सकी उस पर इकबाल,
प्रश्न आज भी प्रश्न रह गया,
तुमने किसी और का हाथ साथ अपना लिया ।
आज तुम बिन मेरी दुनिया बेरंग है,
मेरी अधूरी मुस्कान है, होठ बन्द हैं,
तुम बिन मेरी कहानी अधूरी है झल्ली,
जबाव मैं दे चुका था, तुम हमराही क्यों न बन सकीं,
आज भी यही एक सवाल  है।

Wednesday, 18 September 2019


कुछ प्रश्न




उसका और मेरा नाता कुछ तो है,
यूँ ही तो तूने हमें ना मिलाया होगा।

कुछ फलसफा तो होगा इस मुलाकात का भी,
यूँ ही तो तूने हमें न तो रूलाया होगा।

यूँ ही तो तूने हमें ना मिलाया होगा





मिला दे


उसे और मुझे तू मिला दे,
यूँ ना तू हमें जीने की सजा दे।

गर करें हैं हमने कुछ पुण्य,
तो भुला दे सब, और कर दे शून्य

सारी गिला मिटा अब,
अब हमें मिला दे।

Tuesday, 3 September 2019

गुजरा हुआ वक़्त

उसने मेरा हाथ ऐसे छोड़ दिया
उसने सारे किए वादों को ऐसे तोड़ दिया
उसने मेरे साथ बिताए लम्हों को यूं भुला दिया
जैसे मैं वो बुरा समय था जो उसने गुजार दिया।
आज वो मुझे बंदिशों में रहना सिखा रही है
मुझसे दूर जाती जा रही है
गर मैं शिकायत करू तो प्यार जताती है
वो ये सब करके सायद अपने अनसुलझे रिश्ते को बचा रही है
पर मुझे भी उससे कोई गिला नहीं सिकवा नहीं
मै अब उसके लिए सायद जी का जंजाल हूं
पर मेरा दिल ये नहीं समझता
उसके लिए आज भी है तड़पता

Maggie

Monday, 26 August 2019

मजबूर हो रही है

मजबूरी

वो आज मुझसे दूर हो रही है,
ना चाहते हुए भी मजबूर हो रही है।

वो उन अनचाहे रिश्तों को निभा रही है,
उन्हें निभाते-निभाते अपना वजूद खोती जा रही है।

अपने आंसू और दर्द को अब मुझे नहीं बता रही है वो,
शायद वो मुझे अपना नहीं समझती, मुझे पराया करती जा रही है वो।

कहती है मुझे अब तुझसे दूर जाना है,
पर शायद उसे नहीं पता, मेरे और करीब आती जा रही है् वो।

माना अब हम एक साथ नहीं, 
पर आज भी हम दोनों को उस दूरी का अहसास नहीं।

आज भी करती है वो मेरी फिकर पर जताना चाहती नहीं,
दोबार से सब बयान करके मुझे सताना चाहती नहीं।

मैं उसे अपने से ज्यादा जानता हूँ,
पर उस नादां को कौन समझाये, मैं उसके दर्द को उससे पहले पहचानता हूँ।


"मैगी"

Friday, 16 August 2019

हाँ मैं मिस करता हूं

कैसे पीछे छोड दूँ




हाँ मैं मिस करता हूं , उसके हाथ का खाना 

उसके साथ घूमने जाना, उसके  साथ बिताए लम्हे ।



हाँ मैं जानता हूं, वो आज नहीं करती अपनी मोहब्बत का इजहार

क्युकी अब उसने बसा लिया है किसी और के साथ अपना घर - संसार।



हाँ मैं जानता हूं, वो आज भी मुझसे बेइंतहा मोहब्बत करती है,

बस इस समाज और परिवार के कारण मुझे अपनाने में डरती है।



हाँ मैं जानता हूं मै ही हूं उसका पहला प्यार, जिसे वो अपना ना सकी

उसकी भी कुछ मजबूरियां रही होंगी, तभी तो मेरे साथ को अपना बना ना सकी।



हाँ मै जानता हूं कि वो नहीं आएगी अब मेरे पास ,

पर में उसका इन्तज़ार करना केसे छोड़ दू
उन प्यारे लम्हों को में कैसे पीछे छोड़ दू।


"मैगी"

तू मेरा कौन है

तू मेरा कौन है


तू हवा का ठण्डा झौका है,
कभी नाजुक तो कभी तूफां है,
हाँ मेरा गुजरा लम्हा है,
मगर तेरे बिन मेरा जीवन तन्हा है।
                                                    कुछ टूटा सा, कुछ रूठा सा है,
                                                    हर पल मेरे अधरों पर सजा सा है,
                                                    एक दोस्त तू मेरा सच्चा सा है,
                                                    मैं अगर रागिनी तू बीन सा है।
मेरे प्यासे नयनों में तू बहता झरना सा है,
गूँजता उर में मेरे तू एक नगमा सा है,
मैं चमकती बिजूरी सी, तू मेरा आसमां है,
जिसको टूटने की तलव नहीं तू वो एक सपना है।
                                                      तू मुझे पूछता है तू मेरा कौन है?
                                                      तू दूर है मगर पास है,
                                                      तू मेरे जीवन में सबसे खास है,
                                                      जज्बातों का बहाना नहीं बनाती,
                                                      तू मेरे दिल में धडकता खूबसूरत अहसास है।

                                                          "मीठी"
                                  

Thursday, 15 August 2019

मेरे अजीज दोस्त

मेरे अजीज दोस्त


हसते थे, हसाते थे,
समझते थे, समझाते थे,
थोडी मेरी सुनते, थोडी अपनी बताते थे,
कुछ ऐसे अजीज दोस्त मेरे थे।

जब किसी रोज पलके बिछायें मैं बैठ जाया करती थी,
उदास दिल में गम छुपाये रखती थी,
वो हसी और ठिठोली से मुझे गुदगुदाया करते थे,
कुछ ऐसे अजीज दोस्त मेरे थे।

था मुझे शौक अपने विचारों को उनके समक्ष रखने का,
हर गलत बात टोकने का, उन्हे निखारने का,
वो सब मुझे मिलकर दार्शनिक बुलाते थे,
कुछ ऐसे अजीज दोस्त मेरे थे।

पाते थे जब कभी मुझको अकेला सा,
कभी सवेरा तो कभी सहारा बन जाया करते थे,
मेरे अंधेरों में वो उजालों सी किरण बन जाया करते थे,
कुछ ऐसे अजीज दोस्त मेरे थे।

वो दोस्त मेरे बहुत खूब थे,
मौज-मस्ती से भरपूर थे,
वो रौनक का बाजार लिये थे,
कुछ ऐसे अजीज दोस्त मेरे थे।

                                                "मीठी"

Tuesday, 13 August 2019

बारिश- वर्षा

बारिश- वर्षा


बारिश जब-जब आती है, सबके चेहरे पर खुशियाँ छाती है,
कल-कल करती हुई नदियाँ बहती हैं, इठलाती है,
मानो मधुर-मधुर सा संगीत सबको सुनाती है,
बादलों की घुमड-घुमड, ठण्डी-ठण्डी पवन,
तन-मन को लुभाती है,
बारिश जब-जब आती है, सबके चेहरे पर खुशियाँ छाती है।

पेड, पौधे, लताए और फूलों पर,
बारिश की बूंदे मोती सी बनकर सज जाती है,
बागों मे खिलते फलों की सुगंध सबको भाती है,
रिमझिम बरखा रानी फूलों को खिलाती है,
बारिश जब-जब आती है, सबके चेहरे पर खुशियाँ छाती है।

बारिश की बूदें प्यासी धरती की प्यास बुझाती जाती है,
पेड-पौधे, जीव-जन्तु सबको जीवन दे जाती है,
भीषण गर्मी से बचाती है, शीतलता बरसाती है,
वर्षा बहार भू पर जीवन की ज्योति जलाती है,
बारिश जब-जब आती है, सबके चेहरे पर खुशियाँ छाती है।

टप-टप करती बारिश की बूंदे खिडकी की दीवार पर खटखटाती हैं,
बचपन में उनके साथ खेलती थी शायद इसलिये मुझे बुलाती हैं,
मन मयूर होने लगता है आंखे भीग जाती हैं,
मगर अब कैसे समझाऊ बारिश को, उम्र की बेडिया नहीं तोडी जाती हैं,
बारिश जब-जब आती है, सबके चेहरे पर खुशियाँ छाती है,



Monday, 12 August 2019

मेरा दोस्त - मेरी आंखों का तारा

मेरा दोस्त - मेरी आंखों का तारा


रहन-सहन उसका अजीब है,
उसकी हर बात में तहजीब है।
वो सबसे न्यारा, सबसे प्यारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

मेरी खामोशी को वह सुन लेता है,
उदासी को पढ लेता है।
हर कमी, हर गलती मेरी अपनाता है,
मैं भटक जाती हूँ, गर अपने पथ तो मुझे समझाता है।
मुझे सम्भालता गिरने से वो मेरा सहारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

अब का नहीं जन्मों का लगता है अपना याराना है,
क्या रिश्ता है हम दोनों में मुश्किल सबको समझाना है।
मैं नीर की जैसी प्यासी हूँ, वो नदिया की धारा है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

दुनिया की किसी शोहरत की ना उसे दरकरार है,
लाख उतार चढाव आने पर भी उसने ये रिश्ता रखा बरकरार है।
वह आवारा सा है, पागल सा है,
मगर मेरी खुशियों का पिटार है,
एक दोस्त मेरी आंखों का तारा है।

                                                                        "मीठी"

Sunday, 11 August 2019

वजह जीने की

वजह जीने की



1. क्या लिखू, चेहरे पर चिंता की लकीरें लिखू,
             या उदास आँखों की नमी लिखू,
               या लिखू बात कुछ सीने की,

      दिल चाहता है, चलती साँसों को रोक लूँ,
         ए खुदा कोई तो वजह दे जीने की।




2.      मुस्कराना आदत थी मेरी, 
     मगर ये आदत गुमनाम हो गयी,
    गम ए दोस्ती यूँ सरेआम हो गयी ।

    

                                                       "लफ्ज ए मीठी"

मेरा हमसफर- एक अधूरा ख्वाब

मेरा हमसफर- एक अधूरा ख्वाब



मेरी आँखों के आंशू को अपने हाथों से पोछता
मेरे अंधियारे जीवन में वो उजाला भर देता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

यूँ तो गमों से बहुत गहरा रिश्ता रहा मेरा
वो लबों पर बस मेरे हमेशा मुस्कान रखता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

मेरे दिल की उदासी, आँखों की नमी
मेरी निगाहों से वो मेरी हर बात समझ लेता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

वक्त, बेवक्त मुझे हसाता, अपनेपन का अहसास मुझे दिलाता
वो मरहम बनकर मेरा हर दर्द मिटाता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

अंधेरा बहुत है जीवन में वो दीपक सा बन जाता
कांटो भरी मेरी राह में वह फूलों सा बिछ जाता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

मैं बहता पानी दरिया का, वो किनारा बन जाता
अकेला सा जान मुझे, उम्रभर मेरा साथ निभाता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

मैं तपन सूरज की, वो चाँद सा शीतल बन जाता
मेरे उदास जीवन में, वो खुशियाँ भर जाता
काश एक ऐसा हमसफर मेरा भी होता।

                                                                              "मीठी"

Saturday, 10 August 2019

माँ- ईश्वर का दूसरा नाम

माँ- एक प्यारा सा अहसास


प्यारे से अहसास,अद्भूत प्यार,निस्वार्थ
सबसे बडे रिश्ते का,
खूबसूरत नाम है 'माँ'।

परमात्मा का दूसरा रूप,
उपमा ना जिसकी किसी से हो सके,
ऐसा अटूट बंधन, सम्बन्ध है 'माँ'।

गुणों की खान,
संस्कारों का स्त्रोत,
खिलाती है सबके चेहरों पर जो मुस्कान,
ममता का अथाह समंदर है 'माँ'।

कोख से ही सुरक्षा का कराती भान,
हर विषम परिस्थिति में,
डटे रहने का देती ज्ञान,
शिक्षा का भंडार है 'माँ'।

जिंदगी के सफर में,
गर्दिशों की धूप में,
हरपल स्नेह बरसाता आसमाँ है 'माँ'।

माँ त्याग है, तपस्या है,
मरूस्थल में बहता मीठा सा झरना है,
माँ बिन लगे जीवन अधूरा,
तन में जान है 'माँ'।

ईश्वर का दूसरा नाम है 'माँ'।

                                            "मीठी"

Friday, 9 August 2019

वो मेरी पहली सी मौहब्बत

वो मेरी पहली सी मौहब्बत



पहली बार देखा था उसे अरनियॉ थाने में,
ब्लू जीन्स और महरून ग्रे स्वेटर में।

कुछ परेशान, थोड़ा हैरान सा लग रहा था वो,
थाने के हाल को देखकर कहाँ रहूँ, कैसे रहूँ, सोच रहा था वो।

मेरा दिल शर्माया और फिर मुस्कराया था,
क्योंकि जब मैं यहाँ पहली बार आयी थी, यही सब मुझमें समाया था।

क्यूट से चेहरे वाले उस प्यारे से इंसान ने चश्मा लगाया था,
आँखों के जरिये वो मेरे दिल में समाया था।

रातों को जगने की आदत सी हो गयी थी,
उसे हर रोज मैं नोटिस करने लगी थी।

उसके साथ होने पर मुझे राहत सी मिलती थी,
पता ही नहीं चला ये मुलाकात कब आदत, कब चाहत बन गयी थी।

उस जुनून, उस सुकून का अहसास पहले कभी नहीं था,
क्योंकि वो था मेरे पास ऐसे जैसे और कोई नहीं था।

गेहुँआ सा रंग वो उसका न जाने कैसा जादू करता था,
खुद के बस में ना ही मैं, ना ही मेरा दिल रहा करता था।

उसको छुपाया है मैने अपने दिल के कोने में,
पहली बार देखा था उसे अरनियॉ थाने में।

                                                                  "मीठी"

Thursday, 8 August 2019

तेरी एक मुस्कान

तेरी एक मुस्कान



तेरी एक मुस्कान, पर मैं आज भी फिदा हो जाती हूँ,
साँस सी आती है रूह को, मैं जिन्दा हो जाती हूँ।

तू क्या जाने अपनी इस मुस्कान की कीमत, ये अनमोल है,
तेरी ये मुस्कान इस जलती धूप में, बेपरवाह मेरी रूह को ठण्डक दे जाती है।
उम्मीद के उखडे कदमों से हर दर्द को सोख ले जाती है,
आँखों में हो अस्क जितने मगर, मैं मन ही मन मुस्का जाती हूँ।
तेरी एक मुस्कान, पर मैं आज भी फिदा हो जाती हूँ।

मुस्कान तेरी है, जिन्दगी मेरी,
मुस्कान ना हो अगर तेरे लबों पर तो मेरी चाहत अधूरी,
तेरे होठों पर गर ना सजी हो मुस्कान,
तो इसके बिना दिल की हर राहत अधूरी,
तेरी वो मुस्कराती तस्वीर देखकर,
मैं रोज अपने होठों पर मुस्कान ले आती हूँ,
तेरी एक मुस्कान, पर मैं आज भी फिदा हो जाती हूँ।

जानती हूँ अब तूने मुस्कराना छोड दिया, 
हंसना छोड दिया, खिलखिलाना छोड दिया,
पर पल तो कोई रूका नही कभी,
अब ये बात मन में बिठा लो तुम भी,
इस पल को साथ में लेकर अब,
तुम्हें हर लम्हा मुस्कराना है,
क्योंकि एक तेरी यही मुस्कान, मेरे जीने का बहाना है,
तुझे मुस्कराता देखकर मैं बेफिक्र हो जाती हूँ,
तेरी एक मुस्कान, पर मैं आज भी फिदा हो जाती हूँ,
साँस सी आती है रूह को, मैं जिन्दा हो जाती हूँ।


                                                                       "मीठी"



 


Wednesday, 7 August 2019

तोहफा- एक भेंट A Gift

तोहफा- एक भेंट A Gift


उसे तोहफे देना पसन्द है,
मगर मुझे लेना नहीं।

बीच का रास्ता ढूढ कर मैने बोला,
चलो कुछ गैर कीमती दे दो।

जो ना तुम्हारी जेब पर भारी पड़े,
ना मेरे मन पर भारी बने।

नादान था, मुस्कान दे गया।

                                                                                                                "मीठी"

Monday, 5 August 2019

अमृत जैसी रचना- (मैगी)- मेरे जन्मदिवस पर एक खास भेंट

अमृत जैसी रचना- (मैगी)


प्रेम रूपी सागर की वो अमृत जैसी रचना है,
हृदय में जिसके दया, प्यार व अपार करूणा है।

वाणी में  जिसकी घुली है मधुरता,
अन्तर्मन में बसता है प्यार,
शब्दों में जिसकी ढलती है कोमलता,
जन्मा है वो बनकर मेरे लिए उपहार,
मैगी-मीठी का मिलन महज नहीं एक घटना है,
प्रेम रूपी सागर की वो अमृत जैसी रचना है।

हैं होठ गुलाबी, चाल शराबी,
नैन भी उसके कजरारे हैं,
आंखों में गहराई उसकी,
सब गुण उसमें समाये हैं,
मिला कुदरत से मुझे वो खूबसूरत नजराना है,
प्रेम रूपी सागर की वो अमृत जैसी रचना है।

मैं लिखूँ उम्र आज उसकी, चाँद-सितारों से,
मनाऊ आज जन्मदिन उसका, फूल-बहारों से,
रंग भरू उसके जीवन में, अपने रंगीन फव्वारों से,
महक उठे सारा जहाँ, आज हसीन नजारों से,
मेरे लिए जिंदगी को जीने का, वो अर्थपूर्ण बहाना है,
प्रेम रूपी सागर की वो अमृत जैसी रचना है।

है नहीं कोई तोहफा देने को आज बस दुआ करती हूँ,
जन्मदिन पर आज उसके यही भावना रखती हूँ,
पूर्ण हो सारे सपने यही कामना करती हूँ,
फूलों सा सुगन्धित हो जीवन उसका, यही अरमान रखती हूँ,
अब उसके लिए ही रोना, उसके लिए हंसना है,
प्रेम रूपी सागर की वो अमृत जैसी रचना है।

                                                                                    "मीठी"

मेरी चाहत

मेरी चाहत


नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारी आँखों का अश्क,
मैं तो बस तुम्हारे होठों की मुस्कान बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे लवों की चुप्पी,
मैं तो बस तुम्हारे लवों की मीठी बोली बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे चेहरे की सिकन,
मैं तो बस तुम्हारे चेहरे का नूर बनना चाहती हूँं।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे जेहन की बेचैनी,
मैं तो बस तुम्हारे जेहन का सुकून बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे जीवन का अंधेरा,
मैं तो बस तुम्हारे जीवन  की रोशनी बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे तकदीर की चुनौती,
मैं तो बस तुम्हारी तकदीर को चमकाना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारी यादों का अधूरा किस्सा,
मैं तो तो बस तुम्हारी यादों का खूबसूरत हिस्सा बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारी बर्बादी का कारण,
मैं तो बस तुम्हारी जिन्दगी आबाद देखना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती मैं तुम्हारे दिल का दर्द,
मैं तो बस तुम्हारे दिल की राहत बनना चाहती हूँ।

नहीं बनना चाहती जैसे कृष्ण की रूक्मणी,
मैं तो बस तेरी राधा बनना चाहती हूँ।

                                                                          "मीठी"

Sunday, 4 August 2019

मीठी-मैगी की प्रेम कथा

मीठी-मैगी की प्रेम कथा


जीवन अधूरा सा उस बिन होने लगा प्रतीत,
भूल नहीं पाती मैं मधुर यादों का अतीत।

याद है मुझे वो तारीख फरवरी की,
देखते ही मन मुग्ध हो गया था उन चार आँखों पर चश्मिश,
भोले से चेहरे पर, काले घुंघराले बालों पर,

फिर ना रहा होश, न रही खबर,
आंखे उसे ढूढने लगी चारों पहर।

रोज-रोज उससे बातें करने की तमन्ना सी होने लगी,
मैं उसके ख्वाबों-ख्यालों में रात-दिन खोने लगी।

कभी उसके पहनावे को टोकती (T-Shirt), कभी बेवजह सवाल करती,
डैस्क पर बैठकर रोज उसका और उसकी बाइक का इंतजार करती,

वो था बेखवर, मेरी इन शरारतों से,
मेरे मीठे से प्यारे से, मेरे अनकहे जज्बातों से।

FB पर रोज उसकी तस्वीर निहारती, उससे  दिन रात बात करती,
एक फोन एप के जरिये मिला उसका नम्बर, फिर रोज-रोज उसकी DP, Status पर कमेंट करती।

फिर बातें बढ़ने लगी, नजदीकियाँ बढ़ने लगी,
धीर-धीरे मैं उसके इश्क के रंग में ढलने लगी।

मैने भी कर दिया उससे अपने प्यार का इजहार,
फिर मन ही मन रोया दिल, जब सुना उसका इनकार।

फिर रोका खुद को, रोका खुद के जज्बातों को,
पर रोक ना पायी सिलसिला, जो बातें होने लगी रातों को।

धीरे-धीरे बीज प्यार के मेरे लिए उसके दिल में भी उपज रहे थे,
अनसुलझे से हम दोनों के रिश्ते, धीरे-धीरे सुलझ रहे थे।

फिर यू दिल बेचैन सा रहने लगा उसकी फिक्र में,
(Khana Khaya?, Doodh Pia?)
मेरी लेखनी भी रंग गयी उसके जिक्र में।

इस अनकहे, अनोखे, निश्छल एहसास ने पहली बार दिल दस्तक दी थी,
मेरे दिलों-दिमाग, रहन-सहन सब जगह हरकत हुई थी।

कह दिया फिर उसने भी एक दिन, करता हूँ मैं भी तुमसे प्यार (03-07-18),
तुम्हारी इस सच्ची मौहब्बत, पागलपन  ने कर दिया मुझे लाचार।

हर दिन, एक नया मौसम लगने लगा था,
मन मस्त मगन, उसके लिये धडकने लगा था।

फिर यूँ आया तूफान एक दिन (रिश्ता),
कह दिया उसने, अब जी लेंगे तुम बिन।

मैने भी उसे जाने दिया था, क्यों कि मैने उसे दिल दिया था,
रोक लेती हाथ पकडकर, होती गर हासिल करने की चाह,
रहने लगी फिर उस बिन अधूरी, दिल से निकलती हर पल आह।

फिर वो लौटकर आया एक दिन,
कहा कोई तुमसा नहीं, कोई नहीं अपना तुम बिन।

एक बार फिर शुरू हुई, वो मौहब्बत की दास्तां,
एक होने लगी हमारी मंजिल, एक होने लगे रास्ते।

मुझे आज भी याद है वो अपनी पहली Date (30-12-18),
विजय ढावा पर हमने चाय आर बटर टोस्ट किया Ate.

धीरे-धीरे समय गुजरता गया,
उसका और मेरा मिलना बढता गया।

फिर आया एक वो दिन, जिसका था मुझे महीनों से इन्तजार (06-05-19),
मेरा परिवार हो गया था राजी, हम दोनों के रिश्ते को अपनाने को।

मुझे था पूरा यकीन उस पर, वो थाम लेगी मेरा हाथ (07-05-19),
पर ये भरोसा टूट गया, हमारा रिश्ता कहीं छूट गया (12-05-19)।

आज भी उसे जीता हूँ, आज भी उसके लिये मरता हूँ,
हाँ , आज भी मैं उससे बहुत प्यार करता हूँ

                                                                                      "मीठी-मैगी"





Saturday, 3 August 2019

प्रेम बंधन- किस्सा प्यार का

क्या हुआ, आज अगर हम साथ नहीं,
तेरे हाथों में मेरा हाथ नहीं।
फांसले कितने भी हैं हम दोनों के दरमियाँ,
फरक नहीं पडंता, मेरा रिश्ता तुझसे रूह का है,
ये किस्सा जिस्म का नहीं।


क्या हुआ, आज अगर हम साथ नहीं,
तेरे हाथों में मेरा हाथ नहीं।
रोज सवेरे सूरज की किरणों की भांति,
तेरी यादें दिल के आँगन पर दस्तक देती हैं,
मेरी उदास आँखों में चमक,
और होठों पर तबस्सुम रख देती हैं।


जिसमें तेरा जिक्र ना हो,
मेरे पास ऐसी कोई बात नहीं,
क्या हुआ, आज अगर हम साथ नहीं,
तेरे हाथों में मेरा हाथ नहीं।


मिलना और फिर बिछड़ना,
है दस्तूर मौहब्बत का,
प्यार तो एक खूबसूरत रिश्ता है, दिल का,
सांझ ढ़लते ही मेरा यू तुझे शब्दों में पिरोना,
तुझे सोचना, तुझे लिखना,
तू मेरे ख्वाबों ख्यालों में, ना आये,
जाती ऐसी कोई रात नहीं,
क्या हुआ, आज अगर हम साथ नहीं,
तेरे हाथों में मेरा हाथ नहीं।


यूँ तो कुछ अजीबों - गरीब किस्सा रहा हमारा,
प्यार अधूरा होकर भी, पूरा रहा हमारा,
कुछ अनकही सी बातों ने सबकुछ बिखेर दिया,
बहुत कुछ उलझा दिया, बस प्यार और सुलगा दिया,
पर प्रेम किसी बंधन का होता मौहताज नहीं,
क्या हुआ, आज अगर हम साथ नहीं,
तेरे हाथों में मेरा हाथ नहीं।


                                                                           "मीठी" 


Thursday, 1 August 2019

मेरा प्यार, मेरा दर्द

एक लड़का था जो मुझे मुझसे ज्यादा चाहता था,
रोज सवेरे वो मेरी दिल की कैरी में दस्तक देकर,
कुछ अरमान लेकर, कुछ सौगात लेकर,
मुझे मुस्कराने की वजह देकर,
मुझे हर रोज जीने का सलीका सिखाया करता था।


मेरी उदास जिन्दगी में वो खुशियाँ लेकर आया था,
प्यार क्या होता है, खामोश रहकर उसने मुझे बतलाया था,
मेरे बिन कहे ही सबकुछ वो मेरी बात समझता था,
एक लड़का था जो मुझे मुझसे ज्यादा चाहता था।


मैं अक्सर जब उससे रूठ जाया करती थी,
उदास हो जाती थी, रो जाया करती थी,
वो अपनी बचकानी सी हरकतों से मुझे हँसाया करता था,
एक लड़का था जो मुझे मुझसे ज्यादा चाहता था।


आज वो बहुत दूर है मुझ से, फिर भी कोई गिला नहीं,
प्यार हम दोनों के दरमयाँ, कभी कम हुआ नहीं,
दूर रहकर वो मेरी परवाह बहुत करता था,
एक लड़का था जो मुझे मुझसे ज्यादा चाहता था।


था मुझमें भी लिखने का शौक, उसके लिये,
मेरे मन मे अगर सच्चे जज्बात थे, तो उसके लिये,
जितना उसके लिये लिखती थी, उतना कम पड़ता था,
एक लड़का था जो मुझे मुझसे ज्यादा चाहता था


                                                                          "मीठी"

मंजिल मिल जाती - जो तुम आ जाते एक बार

मंजिल मिल जाती 


दो भटके राही को मंजिल मिल जाती,
जीवन में आ जाती नयी बहार,
जो तुम आ जाते एक बार।


मिट जाता गमों का अंधेरा,
खुशियों की हो जाती बौछार,
जो तुम आ जाते एक बार।


मिल जाता इस रिश्ते को खूबसूरत नाम,
मौहब्बत ना होती आज यूँ तार-तार,
जो तुम आ जाते एक बार।


जीवनपथ फूलों सा सज जाता,
होठों पर खिलती हर पल मुस्कान,
जो तुम आ जाते एक बार।



ना तड़पती रूह इस कदर,
ना रहता अधूरा प्यार
प्रेम से हरा-भरा रहता तेरा मेरा संसार,
जो तुम आ जाते एक बार ।


                                                    "मीठी"

Wednesday, 31 July 2019

तुम बसे हो

तुम बसे हो


जैसे मृदुभाव अन्तर्मन में,
जैसे सुगंध चन्दन में,
बसे हो एसे तुम मेरे मन में।
                                          जैसे रोशनी चाँदनी रातों में,
                                          जैसे रिश्ते बंधे सौगातों में,
                                          बसे हो एसे तुम मेरी बातों में।
जैसे गणित हिसाबो में,
जैसे कहानी किताबों में,
बसे हो एसे तुम मेरे ख्वाबों में।
                                           जैसे सनसनाहट हवाओं में,
                                           जैसे गड़गड़ाहट बादलों में,
                                           बसे हो एसे तुम मेरे ख्यालों में।
जैसे साँसे तन में,
जैसे खुशबू सुमन में,
बसे हो एसे तुम मेरे जीवन में ।


                                                                                 "मीठी"

Tuesday, 30 July 2019

मैं तुझे आज भी प्यार करती हूँ

मैं तुझे आज भी प्यार करती हूँ



तेरे मैसेज तेरी कॉल का इन्तजार करती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                               तू दूर है परवाह नहीं, तुझसे गुफ्तगू आठों पहर करती हूँ,
                                                               मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


तेरी तस्वीर को दिन, एक बार नहीं सौ बार नहीं, हजार बार निहारती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                है नहीं कुछ और तुझे देने को, खुदा से सजदा बार-बार करती हूँ,
                                                                मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


तू आया मेरे जीवन में, प्रेम धुन बजाने मन में मैं तेरा आभार करती हूँ,
मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                 अपनी हर एक कविता तुझ पर शुरू तुझ पर ही खत्म करती हूँ,
                                                                 मैं तुझे आज भी बेहद प्यार करती हूँ ।


                                                                                                                                                   "मीठी"



Monday, 29 July 2019

आंशू और मुस्कान

आंशू और मुस्कान



मैं कुछ दिनों से उसमें उसे ढूंढ रही थी,
जब बिखरा हुआ मिला तो उसे समेट रही थी,
अब कुछ समेटा है उसको कुछ बिखरा हुआ सा अब भी है,
जख्म पुराना हो गया पर घाव ताजा अब भी है,


हर चोट पर उसकी मैं मरहम लगाऊंगी,
उदासी भरे उसके जीवन में, मैं खुशियाँ फैलाऊंगी,
टपकने ना दुंगी उसकी आँख से आंशू,
उसके हर एक अस्क को मैं  मुस्कान बनाऊंगी।


                                                                      "मीठी"

Saturday, 27 July 2019

शब्दों की माला

शब्दों की माला


जी चाहता है  गूँथू एक,
शब्दों की ऐसी माला,
जिसमें उस एक शख्स के,
गुणों का हो धागा,
करूँ मैं माला उसे अर्पण,
जिसने मेरे लिये किया प्रेम समर्पण।
                                                      
अंधकार में, उजालों में,
आँधियों में, तूफानों में,
रहा साथ मेरे वो हरदम,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

सलोनी सी सूरत उसकी,
चाँद सी मोहक अदायें है,
छल, कपट से है वो कोसों दूर,
मन उसका है एक दर्पण,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

हिम सी शीतलता उसमें,
नीर सी चंचलता है,
फूल सी कोमलता है उसमें,
नादानों सा है भोलापन,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

चंदन सी सुगंध है उसमें,
कोयल सी मीठी बोली है,
प्रेम, स्वाभिमानी, धैर्य, उदारता,
की वो है एक मूरत,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

है सबसे न्यारा वो,
अपनी ही धुन पर थिरकता है,
जीवन को जीने का उसका अलग तरीका है,
अजीबो-गरीब ही है उसका मेरा बंधन,
करूँ ये माला उसे अर्पण।

अन्त में,
             एक मधुर रिश्ते की इन कडियों से,
             जुडी रहे ये माला,
             जलती रहे मेरे अन्तर्मन में,
             हर पल उसके प्रेम की ज्वाला,
                        एक बार आज फिर तुम्हारा सजदा कर रही हूँ,
                        अपनी इस कविता में तुम्हारी तारीफ लिख रही हूँ,
                        तुम पर है न्यौछावर मेरा तन मन धन,
                        करूँ ये माला उसे अर्पण।

                                                                                                     "मीठी"


याद करू या भूल जाऊ

याद करू


हे आनन्द,.... क्या तुझमें लिपटी यादें,
भूल-भूलकर खो जाऊ या,
याद करू ।

या तुझमें सारा जीवन,
बिसराऊ,
या तेरी पलकों के आँखों की मीठी मुसकानें,

यू ही अपने जीवन में,
सपना सा जान गुनगुनाऊँ ।

हे आनन्द,... बता तेरी सूरत में है क्या,
तुझे देखकर भी अनदेखा करूँ,
या नित-नित तेरी तस्वीर निहारू।

या तूझे मात्र सोचकर,
डूब जाऊँ कल्पनाओं के सागर में,

या तुझे शब्दों की माला में पिरोकर,
जीवन भर नये-नये गीत बनाऊँ । 

                                                             "मीठी"

मुझे अब तुझसे दूर जाना है

मुझे अब तुझसे दूर जाना है


आठों पहर आने वाली, तेरी यादों के सहारे, 
अब हँसना और जीना है, मुझे अब तुझसे दूर जाना है ।

पहलू से अब तेरे खुद को सिमेटना है,
पास रहकर अब तेरे, तुझे नहीं और सताना है।

मुझे अब तुझसे दूर जाना है।

है तुझसे  बेहद प्यार, अब यह अहसास तुझे नहीं दिलाना है,
तेरे और तेरे अपनों की खुशी के लिये, मुझे अब तुझसे दूर जाना है।


रहे तू आबाद अपनी दुनिया में, अब यही एक सजदा खुदा से करना है,
तेरे एक-एक जख्म को अपनी दुआओं से भरना है ।

मुझे अब तुझसे दूर जाना है । 


"मीठी"

विरह: बिखरी यादों का संसार

विरह: बिखरी यादों का संसार



तेरी मीठी यादों का झराना, जब-जब दरिया ए दिल में गिरता है।
झर-झऱ लहरोंं सा शोर मेरे अन्तर्मन में भी बजता है।


तेरी यादों का झोका भी हवा की भाँति चलता है,
आता है जाता है फिर दब कर कहीं आँखों में रूक जाता है ।
आता है जाता है फिर थक कर कहीं आँखों में रूक जाता है ।

कुछ बिखरी यादों का संसार लिये, एक विरह की आग लिये,
अब तन-मन हर रोज मेरा जलता है, लहरों सा शोर मेरे मन में बजता है ।
झर-झऱ लहरोंं सा शोर मेरे अन्तर्मन में बजता है।



                                                                                                                          "मीठी"

Friday, 26 July 2019

What is Love: A Poem

Love: A Poem


Love is not a Joke,
Love is not a Game.
Once you fall in Love,
You will be never same.
                                        Love is never-ending,
                                        Love is never wrong.
                                        Sometimes it makes you Weak,
                                        Sometimes it makes you Strong.
Love is everlasting,
Love is wonderful.
When you are in Love, someone,
You became cheerful.
                                          
                                        Love is always true,
                                        Love is always kind.
                                        Love is something that happens,
                                        Not something that you find.



                                                                                            "मीठी"(झल्ली) 

वो शख्स- Wo Shakhs- एक शायरी किसी खास के लिये

वो शख्स- बस एक आश


जिसके काले, घुंघराले से बाल हैं,
जिसका रंग रूप सबसे कमाल है, 
जिसके गालों पर छायी सुबह की लालिमा है,
जिसकी आँखों में सागर सी गहरायी है,
जिसकी तस्वीर मैने अपनी कविता में दिखायी है,
जो मेरी जिन्दगी में बस 'काश' है,
वो शख्स मेरी जिन्दगी में सबसे खास है।


जिसकी मुस्कराहट में फूलों सी ताजगी है,
जिसकी हंसी में लहरों सा शोर है,
जिसके चेहरे पर नादानों सा भोलापन है,
जिसके अन्दर गुलाबों सी महक है,
जिसकी बोली में शहद सी मिठास है,
वो शख्स मेरी जिन्दगी में सबसे खास है।


जिसकी रूह में गंगा सी पवित्रता है,
जिसकी पहाड़ों सी ऊँची मानसिकता है,
जिसका रहन-सहन भी मनभावन है,
जिसका मन बच्चों सा पावन है,
जो मेरी जिन्दगी की बस आस है,
वो शख्स मेरी जिंदगी में सबसे खास है।

                                                    "मीठी"





मैं लिखूँ- Me Likhu

मैं लिखूँ


लिखूँ अपनी पक्तियों में तुझको,
तेरा सभ्य, विनम्र व्यवहार लिखूँ।
कर्मठ, मृदुभाषी, दयालू, सदाचारी,
तुझमें समाये संस्कार लिखूँ ।


                                                     मैं सूरजमुखी के सूरज से,
                                                     वह नैन मिलन का सार लिखूँ ।
                                                     मेरे नयनों में देखकर, तेरे चंचल नयनों का,
                                                     मैं  शरमाना हजार बार लिखूँ।


मैं तुझको अपने पास लिखूँ,
या दूरी का अहसास लिखूँ ।
वो पहली-पहली घास लिखूँ,
या निश्छल पडता प्यार लिखूँ।


                                                     सावन की रंगीली बहार लिखूँ,
                                                     या पतझडं में मौसम का संहार लिखूँ ।
                                                     है नीरस तुझ बिन जीवन मेरा,
                                                     मैं तेरी आँखों मेंं अपना सारा संसार लिखूँ।


तुझे हकीकत लिखूँ या ख्वाव लिखूँ,
बसुन्धरा-मेघा सा तेरा-अपना साथ लिखूँ।
राधा-कृष्ण के प्यार सा,
मैं वो अधूरा सार लिखूँ।


                                                    चुन-चुन कर नये-नये शब्द तेरे लिये,
                                                    अपनी हर कविता में तुझको बार-बार लिखूँ।
                                                    बहुत मुश्किल है तुझे सिर्फ कविताओं में बयां करना,
                                                    तू ही बता मैं कैसे अपना प्यार लिखूँ ।


                                                                                             "मीठी"

Thursday, 25 July 2019

कविता:-Ek Shakhs- एक शख्स A Poem


एक शख्स- Ek Shakhs


एक शख्स है मेरी जिन्दगी में गजलों की तरह,
अंधेरों में उजालों की तरह।
मेरे गम ए परस्ती में मुझे हसाता है वो,
मैं रूठ जाऊँ तो मुझे प्यार से मनाता है वो।
मेरी बचकानी सी हरकतों पर मुस्कराता है वो,
मेरा खिलखिलाता मजाज देखकर खिलखिलाता है वो।


एक शख्स है मेरी जिन्दगी में किताबों की तरह,
दिल में धडकते खूबसूरत जज्बात की तरह।
एक हुनर भी अपने पास रखता है वो,
दूर रहकर भी मेरे दिल में बसता है वो।
रात होते ही मेरी आँखों में उतर जाता है वो,
रोज-रोज मेरे ख्वाबों, ख्यालों में आता है वो।
मेरी अधूरी कविता को पूरी करता है वों,
मेरी रूह मेंं सरिता की तरह बहता है वो।


एक शस्स है मेरी जिन्दगी में गवारों की तरह,
कभी न मिलने वाले नदी के दो किनारों की तरह।
भूलकर भी भुलाया न जाये वो ख्याल है वो,
मेरी दुनिया में मेरे लिये सबसे कमाल है वो।
मासूमियत और सादगी में बेमिसाल है वो,


जबाव जिसका ना है कोई, वो सवाल है वो।
एक शख्स है मेरी जिंदगी में गुलाब की तरह,
मुकम्मल कभी ना हो जो उस अधूरे ख्वाब की तरह ।


                                                                                                               "मीठी"